भागवत कथा में धूमधाम से मनाया कृष्ण जन्मोत्सव

प्रत्येक व्याधी का सर्वोतम उपचार है भागवत भक्ति :राघवेन्द्र सरकार

सिटी फर्स्ट न्यूज़ हांसी,
प्रत्येक व्याधी का सर्वोतम उपचार है भागवत भक्ति, भागवत भगवान की भक्ति से ही मनुष्य के जीवन में आने वाली हर समस्या से मुक्ति पाई जा सकती है। यह बात पंचायती रामलीला मैदान में आयोजित श्रीमद्भागवत सप्ताह के चौथे दिन कथा वाचक राघवेंद्र सरकार ने कथा के दौरान कही। श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान सप्ताह के चतुर्थ दिन गजेन्द्र मोक्ष समुंद्र मंथन, वामन कृपा, मत्स्यावतर, श्रीराम चरित्र और कन्हैया लाल की जन्म कथा का प्रसंग सुनाया। गजेंन्द्र प्रसंग सुनाते हुए कहा किगज और ग्राह लड़े जल भीतर, लड़त-लड़त गज हारा है। भगवान को जब भी विपत्ति में याद किया जाता है तो भक्तों की पुकार सुनकर भगवान को उसकी रक्षा के लिए आना ही पड़ता है। गजेंद्र की रक्षा मगरमच्छ से छुड़ा कर भगवान श्री हरी ने की थी जो प्रभु का परम भक्त था। इस कथा में समुद्र मंथन के साथ-साथ वामन अवतार की कथा का वृतांत सुनाते हुए कहा कि अहंकार दुर करने के लिए भगवान श्रीकृष्ण ने दैत्यों के राजा प्रहलाद पुत्र बली के पास जाकर वामन अवतार लेकर तीन पैर जमीन मांगकर दो पैर में धरती और आकाश को नाप लिया और इस प्रकार बली का अहंकार दुर कर उसको मोक्ष प्रदान किया। इस दौरान भजन तेरे द्वार खड़ा भगवान, भगत भर दे रे झोली सुनाया। राघवेंद्र सरकार ने भगवान श्रीराम के जन्म की कथा के साथ-साथ कृष्ण जन्मोत्सव की कथा का वृतांत सुनाते हुए कहा कि भगवान विष्णु ने कृष्ण के रूप में जन्म लेकर अनेक लीलाएं की।
इस दौरान कृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम के साथ मनाया गया। कृष्ण जन्मोत्सव पर पुष्पवर्षा करते हुए गुब्बारें फोड़े गए और मक्खन मिश्री के प्रसाद वितरीत किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here