राजकीय महाविद्यालय में शहीदी दिवस पर पुस्तक प्रदर्शनी लगाना छात्र को पड़ा महंगा , कालेज प्रशासन ने काटा नाम

सिटी फर्स्ट न्यूज़ हांसी,
शहीदी दिवस पर छात्रों द्वारा राजकीय महाविद्यालय में पुस्तक प्रदर्शनी लगाना एक छात्र को महंगा पड़ गया। कालेज प्रशासन ने इसे अनुशानहिनता मानते हुए एक छात्र अनवर का नाम काट दिया वहीं एक अन्य छात्र अनिल को अंतिम चेतावनी का नोटिस कालेज में चस्पा किया है। उधर कालेज प्रशासन द्वारा छात्रों पर की गई कार्रवाई पर प्रोग्रेसिव स्टूडेन्टस फ्रंट ने विरोध जताते हुए आंदोलन की चेतावनी दी है।
प्रैस को जारी एक ब्यान में प्रोग्रेसिव स्टूडेन्टस फ्रंट के अध्यक्ष अमनप्रीत ने कहा है कि शहीदी दिवस के उपलक्ष में 22 मार्च को कालेज प्रांगण में इतिहास विभाग द्वारा भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया था। जिसमें कई छात्रों ने शहीद भगतसिहं से संबंधित दस्तावेज, जेल नोट डायरी व अन्य प्रगतीशील पत्रिकाओं की एक पुस्तक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। अमनदीप ने बताया की छात्रों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी को कालेज प्राचार्या द्वारा बीच मे ही हटवा दिया गया और 24 मार्च को कालेज प्रशासन ने इसे अनुसानहीनता मानते हुए कालेज छात्र अनवर का नाम काटने व अनिल को अंतिम चेतावनी का नोटिस चस्पा किया है। उन्होने कहा की प्रोग्रेसिव स्टूडेन्टस फ्रंट कालेज प्रशासन की इस कार्रवाई निंदा करता है। उन्होने कहा कि अगर कालेज प्रशासन ने अपने इस नोटिस को वापिस नही लिया तो फं्रट कालेज प्रशासन के खिलाफ आंदोलन करेगा।
उधर इस संदर्भ में जब कालेज प्राचार्या सविता मान से बात की गई तो उन्होने कहा की छात्रों द्वारा कालेज प्रशासन की बिना प्रमिशन के पुस्तक प्रदर्शनी लगाई थी। उन्होने कहा कि कालेज छात्र अनवर द्वारा पहले भी कई बार अनुशासनहिनता की गई है और इसके लिए उसे कई बार समझाया गया था। परन्तु बार-बार समझाने के बावजूद वह अपनी हरकतों से बाज नही आ रहा था। जिसके चलते उसका नाम काटा गया है। वही दुसरे छात्र अनिल को चेतावनी दी गई है। उन्होने कहा कि कालेज में कोई प्रोग्रेसिव स्टूडेन्टस फ्रंट नही है। और ना ही अमनप्रीत कालेज का छात्र है। उन्होने बताया कि अनुसानहिनता के चलते अमनप्रीत का कालेज से दो बार नाम काटा जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here